सोने की कीमतों में हावी हुई गिरावट और बढ़ने की उम्मीद लगाई जा रही है, दुनियाभर से सोने में निवेश लगातार घट रहा है और देश में भी आने वाले दिनों में इंपोर्ट में कमी आ सकती है। निवेश मांग में आई कमी की वजह से विदेशी बाजार में जहां सोने का भाव करीब 5 साल के निचले स्तर के करीब बना हुआ है वहीं घरेलू बाजार में भी सोने का भाव करीब 4 साल के निचले स्तर तक आ चुका है, फिलहाल विदेशी बाजार में भाव 1,090 डॉलर प्रति औंस और घरेलू बाजार में भाव 24,700 रुपये प्रति 10 ग्राम के नीचे बना हुआ है। आने वाले दिनों में घरेलू बाजार में सोने का भाव घटकर 23,000 रुपये के नीचे तक आ सकता है। दुनियाभर में सोने के सबसे बड़े ईटीएफ एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट ने अपने सोने के भंडार में से करीब 20 टन सोने की बिक्री की है, पिछले हफ्ते तक एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट के पास करीब 709 टन सोना पड़ा था लेकिन अब उसके भंडार में सिर्फ 689.69 टन ही सोना बचा है जो नवंबर 2008 के बाद सबसे कम भंडार है। एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट के सोने के भंडार घटने का साफ मतलब दुनियाभर में सोने में घटता निवेश है, भारत और चीन को छोड़ दुनियाभर में बाकी देशों के निवेशक फिजिकल में सोना न खरीदकर सिर्फ ईटीएफ के जरिए सोने में निवेश करते हैं। और अब ईटीएफ अपने पास पड़े सोने को जिस तरह से बेच रहे हैं उससे साफ जाहिर हो रहा है कि आने वाले दिनों में निवेशक इससे और दूर होंगे।

सोने की कीमतों में हावी हुई गिरावट और बढ़ने की उम्मीद लगाई जा रही है, दुनियाभर से सोने में निवेश लगातार घट रहा है और देश में भी आने वाले दिनों में इंपोर्ट में कमी आ सकती है। निवेश मांग में आई कमी की वजह से विदेशी बाजार में जहां सोने का भाव करीब 5 साल के निचले स्तर के करीब बना हुआ है वहीं घरेलू बाजार में भी सोने का भाव करीब 4 साल के निचले स्तर तक आ चुका है, फिलहाल विदेशी बाजार में भाव 1,090 डॉलर प्रति औंस और घरेलू बाजार में भाव 24,700 रुपये प्रति 10 ग्राम के नीचे बना हुआ है। आने वाले दिनों में घरेलू बाजार में सोने का भाव घटकर 23,000 रुपये के नीचे तक आ सकता है।

दुनियाभर में सोने के सबसे बड़े ईटीएफ एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट ने अपने सोने के भंडार में से करीब 20 टन सोने की बिक्री की है, पिछले हफ्ते तक एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट के पास करीब 709 टन सोना पड़ा था लेकिन अब उसके भंडार में सिर्फ 689.69 टन ही सोना बचा है जो नवंबर 2008 के बाद सबसे कम भंडार है। एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट के सोने के भंडार घटने का साफ मतलब दुनियाभर में सोने में घटता निवेश है, भारत और चीन को छोड़ दुनियाभर में बाकी देशों के निवेशक फिजिकल में सोना न खरीदकर सिर्फ ईटीएफ के जरिए सोने में निवेश करते हैं। और अब ईटीएफ अपने पास पड़े सोने को जिस तरह से बेच रहे हैं उससे साफ जाहिर हो रहा है कि आने वाले दिनों में निवेशक इससे और दूर होंगे।

Share This Post

Post Comment